रविवार, 31 जुलाई 2016

बसंत एग्रो टेक (इंडिया) लिमिटेड खरीदें 6.60 रूपये प्रति शेयर पर Basant Agro Tech (India)Ltd @6.60

साथियो नमस्कार
पिछले कुछ आलेखों से आपने शेयर बाजार का कखग सीख ही लिया होगा यदि आप पहली बार इस ब्लोग पर आये हैं तो कृपया निम्न लिंक से शुरूआत करेंः-
अब इस ब्लोग की प्रथम शेयर सलाह आपको दी जा रही है पिछले आलेखों से आप समझ चुकें हैं कि आपको अपनी मासिक आय की 10 प्रतिशत की बचत करनी है तथा उस राशि में से प्रतिमाह यहां जो शेयर बताया जावे उसको खरीदना है। मान लिजिये आपकी मासिक आय 20,000 रूपया मासिक है तो पिछले 4 माह से आपने प्रतिमाह 2000 रूपये बचाकर 8000 रूपये शेयरों में डालने के लिये इक्टठे कर लिये होगें इसमें से आपको आज जो शेयर बता रहें हैं उसमें सिर्फ 2000 रूपये का निवेश करना है।
2000 ही क्यों पूरे 8000 क्यों नहीं?
भाई लोगो जरा शांति रखो बाकी 6000 बचा कर रखों हो सकता है आगे मार्केट टुट जावे तो ऐसी स्थिती में बहुत से शेयर आधार मूल्य से नीचे आ जावेगें तब हो सकता है कि इस ब्लोग पर आपको एक माह 3-4 शेयर बताये जावें ऐसी स्थिति में बाकी 6000 अगले 3 शेयर खरीदने में काम आवेगें।
नये लोग विगत आलेख को एक बार पढेंः-
तो आज आपको बसंत एग्रो टेक (इंडिया) लिमिटेड बताया गया है 1 रूपये फेस वैल्यू की बसंत एग्रो टेक (इंडिया) लिमिटेड कंपनी खाद और बीजों का कारोबार करती है इसकी चार पवन चक्क्यिां भी है इसका बीएसई कोड 524687 है यह एनएसई पर ट्रेड नहीं होती।

इसकी कुल बिक्री शानदार है तथा प्रति शेयर लगभग 35 रूपये की बिक्री हिस्से में आती है आधार मूल्य भी 6.29 है तथा हम इसे आज 6.60 से 7.60 के बीच खरीदते हैं तो इसे कम से कम 15 रूपये पर बेचकर लगभग 135 प्रतिशत मुनाफा कमायेगें।
पर आपको लालची नहीं होना है फिर याद रखना है कि केवल मासिक आय का 10 प्रतिशत ही इस शेयर में डालना है अर्थात आपकी मासिक आय 20 हजार है तो 2 हजार के शेयर लेने हैं व 30 हजार है तो 3 हजार ही इसमें डालने हैं लालच करके 1-2 लाख एक साथ किसी भी शेयर में नहीं डालें क्यों कि मैं भी आपकी तरह ही छोटा निवेशक हुं यदपि मैने शेयरों पर रिसर्च का कोर्स कर रखा है तथा मैं सेबी से रजिस्टर्ड  भी हुं पर कई बार मेरी सलाह भी गलत साबित हो सकती है इसलिये यदि आप की आय 40 हजार प्रतिमाह है व आप इस शेयर में 4 हजार निवेश करके लगभग 7 रूपये प्रति शेयर पर 571 शेयर करते हैं तो आपके पास कमाने के लिये बहुत चांस हैं पर गवांने के आसार केवल 4 हजार रूपये ही रहेगें।
यह शेयर डीविडेंट भी देता है तथा अबके भी 19 सितम्बर 2016 को आपको प्रति शेयर 5 पैसा डीविडेंड मिलेगा यानि आप 4 हजार रूपये के 571 शेयर लेते हैं तो आपको 28.55 रूपये कंपनी के मुनाफे में हिस्सा मिलेगा यदपि यह रकम बेहद छोटी लगती है परन्तु दुकानदार का माल रखे रखे खराब होता है व आपका शेयर जब तक नहीं बिकता तब तक डिविडेंड देता है बशर्ते की आपने अच्छी कपंनी का शेयर लिया हो व कंपनी लगातार अच्छा प्रदर्शन करती रहे।
खैर आपको आलेख कैसा लगा कमेंट में बतायें तथा बसंत एग्रो टेक (इंडिया) लिमिटेड पर मेरी पूरी रिसर्च रिपोर्ट सरल अग्रेंजी में डिस्क्लोजर सहित निम्न लिंक पर जाकर पढ लेवें
अगला भाग 15-30 दिन में प्रकाशित होगा तब तक आप मेरी फ्री शेयरजिनियस मल्टीबेगर स्टोक एप डाउनलोड करके अपने मोबाईल पर इन्स्टाल कर लेवें क्यों कि इस एप में मेरे हिन्दी ब्लोग सहित सभी ब्लोग व यूटयूब विडीयो एक साथ लिये गये हैं तथा जब भी कोई ब्लोग या विडीयो अपडेट होगा तो यह एप आपको ओटोमेटिक पुश नोटिफिकेशन से बता देगी कि इस एप में मैने कुछ नया डाला है।
साथ ही इस एप में मैं लगभग प्रत्येक ट्रेडिंग सेशन में एक ऐसा नया शेयर भी बताता हुं जो हाल ही मैं अपनी 30 50 150 200 डीएमए के उपर ब्रेकआउट हुआ हो आमतौर पर मेरा अनुभव है कि ऐसा ब्रेकआउट स्टोक 1 से 3 माह में 10 से 20 प्रतिशत रिर्टन दे जाता है।
तो कृपया आज ही इस एप को गुगल प्ले स्टोर से मुफत में डाउनलोड करें व इस मैसेज को अपने शेयर बाजार से सबंधित साथियों को फोरवर्ड करें डाउनलोड लिंक हैः-
आपका 
महेश चन्द्र कौशिक
रिसर्च एनालिस्ट (सेबी)

शनिवार, 25 जून 2016

शेयर खरीदने से पहले ध्यान रखने योग्य बिन्दु

साथियो आज मैं आपको शेयर खरीदने से पहले कपंनी के फण्डामेंटल को किन किन बिन्दुओं पर जांचना चाहिये उसे बताउंगा।
आगे बढने से पहले मुझे उम्मीद है कि आपने अपना डीमेट खाता खुलवा लिया होगा तथा पिछले भाग में मैने जो पुस्तक बतायी थी वो पढ ली होगी यदि आपने यह दोनो चरण पार नहीं किये हैं तो पहले इस लिंक पर जावेंः- 
चलिये आज में आपको बताउंगा कि मैं अपनी रिसर्च रिपोर्ट मैं किन किन बिन्दुओं को शामिल करता हुं तथा शेयर खरीदते समय किन किन फंडामेंटल को चैक करता हुं। 
1. फेस वैल्यू - फेस वैल्यू कंपनी में निवेश होने वाली आपकी बुनियादी राशि है, दूसरे शब्दों में फेस वैल्यू कंपनी की इक्विटी पूंजी में आपकी वास्तविक हिस्सेदारी है। उदाहरण के लिए अगर किसी कंपनी के पास 10 रूपए फेस वैल्यू के 10,00,000 शेयर हैं, तो कंपनी की शेयर पूंजी 10,00,000 X 10 = 1,00,00,000 है, और अगर आप इस कंपनी के 50 शेयर 100 रूपए के बाजार कीमत पर खरीद लेते हैं तो आप 50 X 100 = 5,000 का निवेश करते हैं, लेकिन कंपनी की शेयर पूंजी में आपकी हिस्सेदारी केवल 50 X 100 = 500 ही है, बाकि के 4500 रूपए तो उस विक्रेता को प्रिमियम में दिया गया जिसने आपको अपना शेयर बेचा। अगर आप 1 रूपए के फेस वैल्यू वाले शेयर को 3500 में खरीदते है तो कंपनी में आपका निवेश केवल 1 रूपए ही है, बाकि के 3499 विक्रेता को दिया गया प्रिमियम है। 
2. साल का उच्च और निम्न स्तर : अब मैं हर शेयर का साल का उच्च और निम्न स्तर देखता हूँ। अगर शेयर साल के उच्च स्तर से 50% से ज्यादा नीचे है तो मैं इसे नजरअंदाज करूँगा। उदहारण के लिए A के शेयर का साल का उच्च स्तर 256.55 है और निम्न स्तर 96 है और शेयर इस समय 108.55 पर कारोबार कर रहा है तो मैं शेयर को नजरअंदाज करूँगा क्यूंकि जब तक कुछ गलत ना हुआ हो, अच्छी कंपनियां साल में कभी भी 50% से नीचे नहीं जाती हैं। इसका उल्टा, एक शेयर अपने साल के निम्न स्तर से 100% से ज्यादा पर कारोबार कर रहा है मैं इसे नजरअंदाज करूँगा। उदहारण के लिए कंपनी B 56 पर कारोबार कर रही है और इस कंपनी का साल का उच्च स्तर 65.25 है और 19 निम्न है तो मैं इसे नजरअंदाज करूँगा, मेरे हिसाब से ये शेयर पहले से तेज कारोबार कर रहा है और बाजार के गिरने का इन्तेजार करना ही अच्छा है। इसलिये मैं वही शेयर खरीदता हुं जिसका 52 हफ़्तों का ऊँचा/ 52 हफ़्तों का नीचा अनुपात 2 से कम हो। आप मेरी वेबसाईट www.maheshkaushik.com पर ऐसे शेयर देख सकते हैं। 
3. संस्थापकों का स्वामित्व - अब मैं संस्थापकों का स्वामित्व देखूंगा। अगर संस्थापकों का स्वामित्व 15-20% नीचे है तो मेरे हिसाब से शेयर निवेश के लिए अच्छा नहीं है। अगर संस्थापकों का स्वामित्व पिछले एक से चार तिमाहियों में कम हो रहा है तो मेरे हिसाब से कुछ गलत है और इन शेयरों से बचिए क्यूंकि संस्थापक खुदरा निवेशकों को अपना शेयर बेच रहे हैं लेकिन संस्थापक अगर अपना स्वामित्व बढ़ा रहे हैं तो मेरे मेरे हिसाब से ये अच्छा है क्यूंकि संस्थापक जानते है की उनकी कंपनी की बुनियाद काफी अच्छी है। संस्थापकों के शेयर गिरवी रखे हो तो उन शेयरों से बचें। अमेरिका से मेरे एक पाठक ने मुझे लिखा - " मैं आपके संस्थापकों के स्वामित्व वाले विचार को भारतीय और अमेरिकी बाजार के भिन्नता के वजह से कुछ अच्छे से समझा नहीं। कृपया मुझे एक उदाहरण दीजिये की अमेरिका में संस्थापक का मतलब क्या होगा ? तो मैं आपको संस्थापक का मतलब भी बताना चाहता हूँ ," संस्थापक वो आदमी है जो अपनी कंपनी को बनाने में संलग्न रहा हो। उदहारण के लिए बिल गेट्स माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक हैं और फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकेरबर्ग हैं। 
 4. आधार मूल्य - आधार मुल्य का अर्थ है तीन साल की औषत कीमत इससे आपको शेयर के वास्तविक मूल्यांकन का अंदाजा रहता है तथा आप ज्यादा उंची कीमत पर शेयर नहीं खरीदते मान लिजिये आप बाजार में मोबाईल लेने जाते हैं तो आपको आईडीया होता है कि इस फीचर का मोबाईल 6 से 7 हजार में आ जावेगा यदि आपको ऐसा अदांजा नहीं हो व दुकानदार आपको 6 हजार का मोबाईल 30 हजार में बेच देवे तो क्या होगा? इसलिये तीन साल की औषत कीमत जिसे मैं आधार मूल्य या बेस प्राइस कहता हुं अवश्य चैक करके इससे 20 प्रतिशत कम या ज्यादा पर ही शेयर लेवें।। 
5. प्रति शेयर कुल राजस्व (बिक्री) -  शेयर का प्रति वर्ष प्रति शेयर कुल राजस्व(बिक्री) Net Sale per Share की गणना करें, अगर आपके शेयर की कीमत इससे कम है तो शेयर का मूल्यांकन अच्छा है और अगर CMP ज्यादा है तो शेयर ऊँचे मूल्यांकन पर कारोबार कर रहा है। 
6. हाल के समय का कोई बड़ा सौदा या बोनस नहीं -  थोक सौदा किसी अनुमानित गतिविधि का लक्षण है, तो मैं किसी शेयर को पिछले 2 साल में किसी थोक सौदे होने की वजह से बचता हूँ। इसी तरह  शेयर विभाजन और बोनस किसी कंपनी के बुनियाद को नहीं बदलते हैं, वो केवल निवेशकों पर मनोवैज्ञानिक प्रभाव छोड़ते हैं और हाल के समय के शेयर विभाजन और बोनस के बाद ये शेयर गिरावट का रुख कर लेते हैं,तो जिन शेयरों में पिछले 2 सालों में शेयर विभाजन और बोनस हुआ हो, उनसे बचें।
ज्यादा जानकारी के लिये मेरी अग्रेंजी पुस्तक का हिन्दी अनुवाद शेयर बाजार में विजय पाने के सिद्धांत खरीद सकतें हैं जिसका लिंक ये हैः-
Read  My book " The Winning Theory in Stock Market" is available in Hindi and English Here are the detail links about my book:-
English Printed book or ebook:-
The Winning Theory in Stock Market ( English)
Hindi Printed book:-
शेयर बाजार में विजय पाने के सिद्धांत The Winning Theory in Stock Market (Hindi)
Hindi E book:-
शेयर बाजार में विजय पाने के सिद्धांत The Winning Theory in Stock Market (Hindi)

शुक्रवार, 20 मई 2016

शेयर बाजार में लगाने के लिये पैसा कंहा से लायें?


अभी तक के मेरे पिछले दो आरटीकल पढकर आप डीमेट खाता खुलवा चुके होगें यदि आपने यह दोनो आरटीकल नहीं पढें है तो कृपया पहले इस लिंक पर जाकर पढ लेवेंः-
अब आपने डीमेट खाता खुलवा लिया है इसके लिये सर्वप्रथम तो मेरी बधाई स्वीकार करें क्यों कि आपने एक ऐसे स्मार्ट व्यापार में कदम रख दिया है जिसके लिये आपको ना तो किसी गोदाम स्टोर दुकान की जरूरत है ना ही ज्यादा पूंजी निवेश की आवश्यकता है आप मेरी तरह कम पूंजी में भी इस स्मार्ट व्यापार को कर सकते हैं।
अब आपके सामने यह प्रश्न है कि शेयरों में लगाने के लिये पैसा कहां से लावें या कौनसे पैसे से शेयर खरीदे क्या आपकी बैंक एफडी को तोड़कर शेयर ले लेने चाहिये? या आपको किसी भी व्यापार की तरह बैंक से लोन लेकर शेयर ले लेने चाहिये?
यदि आप के मन में उक्त दोनों प्रश्न आ रहें हैं तो मेरा उतर स्पष्ट ना में है अर्थात ना तो बैंक एफडी तोड़कर शेयर लेने चाहिये ना हि आपको उधार लेकर शेयर लेनें चाहिये।
हाल ही मैं मेरे पूर्व बोस जो अब सेवानिवृत हो चुके हैं मेरे से मिलने आये तथा वो यह जानकर काफी रोमांचित व अति उत्साहित थे कि मैने शेयर बाजार में काफी सफलता अर्जित कर ली है इसलिये उन्होने मुझसे पुछा कि क्या वे अपनी सेवानिवृति में मिली रकम से की गयी 3 लाख की एफडी तोड़कर मेरी शेयरजिनियस एप में बताये गये शेयर खरीद लेवे?
मैने उनको स्पष्ट मना कर दिया कि ऐसा करना उनका अनुचित कदम होगा। मैने उनको समझाया कि सर यदि आप शेयर बाजार में एक ही स्तर पर एक साथ तीन लाख रूपये बैंक एफडी तोड़कर डालते हैं व बाजार किसी कारण से गिर जाता है या आपके शेयर एक दो साल प्रफोर्म नहीं करते हैं तो आपको चितां होगी व आप नुकसान खाकर भी शेयर बेचकर वापस एफडी करवा देगें तथा मेरा तरीका यह नहीं था जिससे मैने सफलता अर्जित की है मेरा तरीका इससे बिल्कुल अलग है।
मैने उनको अपने एन्ड्राईड फोन में मेरी शेयरजिनियस एप डाउनलोड करने की भी सलाह दी जो आप भी निम्न लिंक से डाउनलोड कर सकते हैं-
इसी प्रकार लोन या उधार लेकर शेयर खरीदने से भी आप एक ही स्तर पर काफी बड़ा निवेश कर देते हैं व किसी कारण से बाजार के गिरने पर ब्याज के भार को देखकर चिंता करते हैं तथा अच्छे शेयर को लम्बे समय तक होल्ड करके मल्टीपल रिर्टन कमाने की क्षमता खो देते हैं ।
यहां मेरा जो तरीका है वो बेबिलोन का सबसे अमीर आदमी पुस्तक से प्रेरित है 3000 वर्ष पूर्व लिखी इस पुस्तक जो 1926 में प्रकाशित हुयी में जो तरीका बताया गया है वो बहुत ही जोरदार तरीका है कि आप अपनी आय का 10 प्रतिशत प्रतिमाह आवश्यक रूप से बचावें तथा उसका सुरक्षित निवेश करें तो आप बहुत जल्द अमीर आदमी बन जावेगें।
मैं आपको इस तरीके को शेयर बाजार में काम लेने का प्रैक्टीकल उदाहरण बताता हुं मान लिजिये कि आप बहुत छोटी नौकरी करते हैं व आपकी पगार मात्र 10 हजार प्रतिमाह है तो आप इसका 10 प्रतिशत अर्थात एक हजार रूपया प्रतिमाह शेयर खरीदने के लिये बचावें इसी क्रम में आपकी तनख्वाह या औषत मासिक आय 20 हजार प्रतिमाह है तो आप प्रतिमाह 2 हजार रूपया शेयरों में लगाने के लिये बचावें ।  
इस प्रकार आप अपनी मासिक आय के 10 वें हिस्से से प्रतिमाह शेयर लेगें तो आप इनको लम्बे समय तक होल्ड करके मल्टीपल रिर्टन कमा सकेगें व प्रतिमाह अलग अलग शेयर लेने से आपका पोर्टफोलियोे अलग अलग स्तरों पर खरीददारी किया हुआ विविधता पूर्ण पोर्टफोलियो होगा ।
 आपको मेरी सलाह है आप आगे बढने से पूर्व  बेबीलोन का सबसे अमीर आदमी  पुस्तक अवश्य पढें जो आपको मात्र 140 रूपये खर्च करने पर अमेजन से ओनलाईन मिल सकती है अमेजन पर बेबीलोन का सबसे अमीर आदमी पुस्तक का लिंक मैं निचे उपलब्ध करवा रहा हुंः-
आप इसे मंगा कर अध्ययन करें अगला भाग जो 15-20 दिन में प्रकाशित होगा में आपको शेयर खरीदने से पहले ध्यान रखने योग्य बिन्दू बताये जावेगें।

रविवार, 1 मई 2016

शेयर बाजार में निवेश की शुरूआत कैसे करें?

मेरे पूर्व आलेख को पढकर आप लोगों ने भी शेयर बाजार में निवेश का मन बना लिया होगा पर आप यदि यह नहीं जानते हैं कि शेयर बाजार में निवेश कैसे शुरू करें तो चिंता की कोई बात नहीं है मैने यह ब्लोग शेयर बाजार से बिल्कुल अनजान छोटे निवेशों को कखग से सिखाने के लिये ही खोला है क्यों कि मैं भी कभी आप जैसा ही नया व छोटा निवेशक था। 
( ईमानदारी से लिखने की बात यह है कि मैं आज भी छोटा निवेशक ही हुं तथा किसी भी शेयर में एक बार में 5750 से ज्यादा का निवेश नहीं करता।) 
चलिये आपको कखग से सीखाते हैं परन्तु आप यदि सीधे इस आलेख को पढ रहें हैं तो आप पहले मेरा पिछला आर्टिकल पढेंः- 
अब आप को एक डीमेट खाता खुलवाना है। 
डीमेट खाता क्या होता है?- आपका बैंक में सेविंग एंकाउट होगा आप उसमें अपने पैसे रखते हैं बैंक इन पैसों पर ब्याज भी देता है तथा आपके पैसे सुरक्षित भी रहते हैं ऐसे ही भारत में एनएसडीएल और सीडीएसल नामक दो शेयर डीपोजिटरी है जिनमें आपका डीमेट खाता खोला जाता है डीमेट खाते में आपके शेयर उसी प्रकार जमा होते हैं जैसे बैंक में आपके पैसे जमा होते हैं अर्थात डीमेट खाते में आपके द्वारा खरीदे गये शेयर इलैक्ट्रोनिक रूप से जमा रहते हैं। 
यद्पि इन शेयरों पर डीमेट खाता ब्याज नहीं देता पर यदि आपकी कंपनी डीविंडेंड देती है तो आप डीविडेंड प्राप्त कर सकते हैं जो सीधे आपके बचत खाते में जमा हो जाता है। 
अतः आपको शेयरों में कारोबार के लिये तीन खातों की जरूरत होती हैः- 
1. डीमेट खाता 
2. बचत खाता 
3. ट्रेडिंग खाता 
मैं आईसीआईसीआई बैंक को इसके लिये पसंद करता हुं 

क्यों कि ये उक्त तीनों खाते एक साथ खोलता है आपका बचत खाता आईसीआईसीबैंक में खोला जाता है व डीमेट व ट्रेडिंग के खाते आईसीआईसीआई डायरेक्ट में खोले जातें हैं। मैं आईसीआईसीआई बैंक का एजेन्ट नहीं हुं  यहां इस बैंक में खाता खुलवाने की सलाह मैने मेरे व्यक्तिगत अनुभव के आधार पर दी है मेरा व मेरी पत्नी का डीमेट खाता इसी बैंक में है इसकी वेबसाईट से ओनलाईन ट्रेडिंग करना आसान है इसी से आप म्युचुअल फंड व भारत सरकार की पेंशन योजना में निवेश कर सकते हैं।अतः कृपया यह प्रश्न नहीं पुछें की आईसीआईसीआई में ही क्यों एसबीआई में क्यों नहीं? आप सरल अगे्रंजी जानते हैं तो इस बारे में ज्यादा जानकारी के लिये मेरा ये लेख पढेंः- 
डीमेट खाता जीरो बैलेंस पर खुलता है परन्तु मेरी सलाह है कि आप आईसीआईसीआई में डीमेट खाता तभी खुलवायें जब आपके पास बचत खाते में जमा करने के लिये कम से कम 20 हजार रूपये हों क्यों कि हम यहां दस हजार का बैलेंस बचत खाते में रखेगें क्यों कि औषतन 10 हजार बचत खाते में नहीं रखने पर आईसीआईसीआई मैन्टेनेंस चार्ज लगा देता है व बाकी 10 हजार से शेयर खरीदेगें । 
शेष अगले आलेख में जो 15 दिन बाद प्रकाशित होगा।
तब तक आप यू टयूब पर मेरे कुछ वीडीयो देखेंः-

शुक्रवार, 25 मार्च 2016

शेयर बाजार में निवेश करने के फायदे।

साथियो नमस्कार

महेश कौशिक डाट कोम ( http://www.maheshkaushik.com/) के इस हिन्दी संस्करण में आपका स्वागत है विगत 7 वर्ष से मेरा अंग्रेजी ब्लोग प्रचलन में है तथा मेरे बहुत से हिन्दी भाषी दोस्तों की मांग थी की मैं अपने ब्लोग का हिन्दी संस्करण भी लांच करूं जो 2016 की होली के इस शुभअवसर से प्रारंभ करते हुये मुझे अति प्रसन्नता हो रही है।
 मैनें मेरे बीमा संबधि ब्लोग बीमाजिनियस (bimagenius) का नाम बदल कर उसे हिन्दी महेश कौशिक डाट कोम (http://hindi.maheshkaushik.com) किया है इसलिये इस ब्लोग पर आपको बीमा संबधि पुराने आलेख अग्रेंजी में दिखायी देवे तो चिन्ता मत किजियेगा अब से इस ब्लोग पर सिर्फ हिन्दी में शेयर बाजार के मेरे आलेख ही मिलेगें व बीमा के ब्लोग को बंद किया जा रहा है। 
आप अपने ब्राउजर में सीधे http://hindi.maheshkaushik.com लिखकर मेरे हिन्दी ब्लोग को खोल सकते हैं। आज के इस प्रारंभिक आलेख में मैं आपको शेयर बाजार में आपकेा निवेश क्यों करना चाहिये उसके बारे में बताउंगा फिर अगले आलेख में आपको शेयर बाजार में निवेश किस प्रकार से प्रारंभ करें उसके बारे में सीखाउंगा। 
आप बस इस ब्लोग को बुकमार्क कर लेवें व हर 10-20 दिवस में अपडेट के लिये विजिट करें आप को इस ब्लोग पर शेयर बाजार की हिन्दी में जानकारी दी जावेगी। तो आज के मूल विषय पर आते हैंः- 
शेयर बाजार में मुझे निवेश क्यों करना चाहिये? 
आप सोचते होंगे शेयर बाजार तो अमीरों के लिये है आप मध्यमवर्ग से हैं आपकी गाढी कमायी शेयर बाजार में डाल कर आप तो रोड पर आ जावेगें। पर यह बेवकुफी है आप कुछ मुर्ख सट्टेबाज लोगों की सुनी सुनाई बातों के कारण पूंजीपति बनने के इस सुअवसर से दुर है तथा यदि आप उधोगपति बनना चाहते हैं तो सैंकड़ो सालों से हर देश मेंं शेयर बाजार ही इसका अवसर आम आदमी को दे रहा है। 
दरअसल कुछ लोग शेयरों में निवेश न करके सट्टा करते हैं जो क्रिकेट में भी कर सकतें है बरसात होगी या नहीं होगी इस पर भी लोग सट्टा करते हैं लोग जुआ भी खेलते हैं इसमें यदि पैसा डुबता है तो शेयर बाजार क्या करे? 
मै आपको जिस निवेश की बात कह रहा हुं वो कंपनी में कपंनी के मालिकों की तरह हिस्सा खरीदना है जीं हां आप यदि कपंनी का एक शेयर भी खरीदते हैं तो आप उस प्रतिशत तक कंपनी के मालिक के बराबर अधिकार रखते हैं आपकेा कंपनी के लाभ में हिस्सा मिलता है जिसे डीविडेंड कहते हैं व यदि कंपनी विकास करती है तो आपके हिस्से की कीमत बढती है। 
मैं चाहता हुं मेरा हर पाठक वारेन बफट ( मशहुर शेयर निवेशक जो शेयरों में निवेश से खरबोंपति बने हैं। ) बने तथा वो गलतियां नहीं करे जो मागर्दशन के अभाव में मैने की थी मैं विगत 7 वर्ष से शेयर बाजार की मुफत शिक्षा दे रहां हुं जो पैसे लेकर शेयर बाजार की टीप बेचते हैं वो सीधे सीधे आपकेा ठग रहें है क्यों कि उनकी टीप में दम होता तो वो स्वंय उससे पैसा क्यों नहीं कमा लेते आपसे पैसे क्यों मांगते हैं? 
मेरा मूल इंगलिश ब्लोग यहां विजिट करें- 
मैं अपने ब्लोग पर जो रिसर्च रिपोर्ट डालता हुं उनमें से 90-95 प्रतिशत में मैं खुद या मेरी पत्नी भी निवेश करते हैं क्यों कि मेरा उददेश्य शेयर बाजार से पैसा कमाना है इसलिये मैं अपने पाठको से पैसे नहीं मांगता। आप पुछेगें 90-95 प्रतिशत मैं क्यों 100 प्रतिशत में क्यों नहीं ? ऐसा इसलिये है कि कई बार मेरे खाते में शेयर मे डालने के लिये पर्याप्त पैसे नहीं होते तो मैं कोई कोई टिप चुक जाता हुं व मैं सेबी से रजिस्टर्ड एनालिस्ट हुं इसलिये सेबी के नियमों ने भी मुझ पर प्रतिबंध लगा रखा है कि मैं अपनी टीप में प्रकाशन से 30 दिन पहले ओर 5 दिन बाद तक किसी भी शेयर में निवेश नहीं कर सकता। 
चलिये अब कुछ ऐतिहासिक उदाहरण देकर आपका मन ललचाते हैं तथा आपको शेयर खरीदने की ताकत से परिचित कराते हैं:-

  इंफोसिस का आईपीओ 1993 में आया था तब इंफोसिस का एक शेयर 95 रूपये का था उस समय आपने 100 शेयरों में निवेश 9500 रूपये में किया होता तो आज बोनस शेयर वगैरा मिला कर आपके पास 51200 शेयर हुये होते तथा इनकी बाजार किमत आज की 6.17 करोड़ रूपये होती इनमें आपको बीच बीच में जो 50 लाख रूपये के लगभग डीविडेंट मिला होता वो शामिल नहीं है। 
ऐसी ही हालात विप्रो के शेयर की है इसका आईपीओ 1980 में 100 रूपये प्रति शेयर में आया था इसमें
आपने 10 शेयर 1000 रूपये में लिये होते ता आज आपके पास 960000 शेयर होते उनकी आज की कीमत 532 करोड़ रूपये होती उसी से आपको इस वर्ष लगभग 4.80 करोड़ डीविडेंट मिला होता पिछले 36 वर्ष में जो डिविडेंट मिला उसकी गणना ही मेरे बूते की बात नहीं है। 
चलिये आज इतना ही अब 15-20 दिन का इंतजार इस ब्लोग के अपडेट होने का किजिये आप थोडी बहुत अग्रेंजी जानते हैं तो इस बीच मेरे अंग्रेजी ब्लोग पर ये चन्दू की कहानी पढ कर शेयर बाजार की ताकत जान सकते हैंः-

Disclaimer:-

author is not a registered insurance adviser and not an agent of any insurance company . I give only my view on particular insurance plan it may be wrong so always ask your financial adviser before make any final decision. This blog content is only for educational purpose and subject to pindwara jurisdiction only